इंजीनियरों और शिक्षकों के बिना नहीं हो सकता राष्ट्र निर्माण : डा. राजीव बिंदल 

himachal sirmour

इंजीनियरों और शिक्षकों के बिना नहीं हो सकता राष्ट्र निर्माण : डा. राजीव बिंदल 

आज का समाचार 
नाहन  ( प्रदीप कल्याण )

 

पहली बार हिमाचल प्रदेश में किसी मीडिया समूह द्वारा राष्ट्र निर्माण में अहम भूमिका निभाने वाले लोगों को सम्मानित किया है जो सराहनीय कदम है यह बात जिला मुख्यालय नाहन में एक मीडिया ग्रुप द्वारा आयोजित डॉ. यशवंत सिंह परमार राष्ट्र निर्माण सम्मान समारोह में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं उनके विधायक डॉ. राजीव बिंदल ने कही। डा. बिंदल  ने कहा कि जहाँ इंजिनियर भौतिक निर्माण करता है वही शिक्षक व्यक्ति निर्माण करते हैं जो समाज में सर्वोपरि है। बिंदल  ने बताया कि बिना शिक्षक के बिना सभ्य समाज की कल्पना करना बेमानी है। भाजपा नेता ने कहा कि यदि शिक्षक ना होता तो ना  कोई इंजीनियर बन सकता था , ना कोई डॉक्टर बन सकता था और ना ही कोई राजनेता , क्योंकि व्यक्ति की नीव शिक्षक द्वारा तैयार की जाती है और जब मजबूत होगी तो निर्माण भी मजबूत होगा। बिंदल ने बताया कि मीडिया ग्रुप द्वारा जो इंजीनियरों और शिक्षकों का चयन किया गया है वह वास्तव में काबिले तारीफ है। उन्होंने कहा कि सबसे अहम बात यह है कि मीडिया द्वारा जो पुरस्कार नामित किया है वह चयन वास्तव में हिमाचल निर्माता डा.  यशवंत सिंह परमार को सच्ची श्रद्धांजलि है।  बिंदल ने बताया कि डा. वाईएस परमार राष्ट्र निर्माण समारोह में जिन शख्सियतों को उन्होंने सम्मानित किया है उस  से वह स्वयं को भी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि हिमाचल प्रदेश में किसी मीडिया ग्रुप द्वारा पहला ऐसा कार्यक्रम किया गया है जिसमें राष्ट्र निर्माण में अहम भूमिका निभाने वाले व्यक्तियों को मंच दिया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में नई शिक्षा नीति लागू की गई है। उन्होंने बताया कि देश के प्रधानमंत्री द्वारा नई शिक्षा नीति लाई गई है वह ना केवल अनुसंधानात्मक है बल्कि रोजगार परख भी है ,इस मौके पर भाजपा के जिला अध्यक्ष विनय गुप्ता,  पर्यावरण सोसाइटी के अध्यक्ष डॉ. सुरेश जोशी।  डिप्टी डायरेक्टर उच्च शिक्षा एवं एलिमेंट्री एजुकेशन , प्रिंसिपल डाइट ऋषि शर्मा , राकेश गर्ग  के अलावा कई विभागों के उच्च अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply