ज्योर्तिमठ मैं संपन्न हुआ सहस्त्र बटुक महोत्सव

Chamoli Uttarakhand

लोकेशन: चमोली

रिपोर्ट:  नवीन सिंह

गुप्त नवरात्रि के शुभ अवसर पर ज्योर्तिमठ मैं आयोजित सहस्त्र बटुक महोत्सव का कार्य हुआ संपन्न, क्या है पूरा मामला आइए इस खास रिपोर्ट में आगे देखें. ज्योर्तिमठ में इस बार गुप्त नवरात्र के शुभ अवसर पर आयोजित सहस्त्र बटुक महोत्सव बड़े ही धूमधाम से मनाया गया, आपको बता दें कि ज्योर्तिमठ मैं पहली बार बटुक पूजा महोत्सव का आयोजन किया गया था जिसमें 1000 बटुको का पूजन किया गया, बड़ी बात तो यह है कि यह बटुक पूजन का कार्य विभिन्न गांव में भी किया गया जहां पर ज्योर्तिमठ के द्वारा सभी बच्चों को भगवान बटुक का दर्जा देकर उनकी पूजा अर्चना की गई. इस दौरान विभिन्न गांव में सभी बच्चों को एक एक बैग और साथ में कई प्रकार की सामग्री भी भेंट की गई, बता दें कि ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज के आशीर्वाद एवं उनके प्रतिनिधि शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती जी की प्रेरणा से ज्योर्तिमठ पहली बार सहस्त्र बटुक पूजा महोत्सव का आयोजन किया गया था, वही बात करें ज्योर्तिमठ के ब्रह्मचारी मुकुन्दा नन्द महाराज जी की तो उनका कहना है कि आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्र के शुभ अवसर पर ज्योर्तिमठ मैं प्रतिदिन चंडी पाठ का आयोजन किया गया उन्होंने बताया कि ज्योर्तिमठ के संत एवं पंडित विद्वान के द्वारा विभिन्न गांव में जाकर बटुक पूजा का आयोजन किया गया, कहा की एक हजार के आसपास छोटे बच्चों को भगवान बटुक का दर्जा दिया गया जिसके बाद उनकी पूजा-अर्चना भी की गई. गौरतलब है कि ज्योर्तिमठ मैं पहली बार भगवान बटुक की पूजा अर्चना होने पर क्षेत्रवासियों में काफी खुशी की लहर है.

Leave a Reply