खालिस्तानियों की एक बार फिर से हिमाचल प्रदेश सरकार को दी चेतावनी, धर्मशला विधान सभा के गेट व दीवारों पर लगाए खालिस्तान के झंडे

Dharamshala

 

 

 

लोकेशन, धर्मशाला जिला कांगड़ा हिमाचल

संजय अग्रवाल 98160, 64741

 

 

खालिस्तानियों की एक बार फिर से हिमाचल प्रदेश सरकार को दी चेतावनी, धर्मशला विधान सभा के गेट व दीवारों पर लगाए खालिस्तान के झंडे

 

पुलिस ने जांच में जुटी, एसपी खुशहाल शर्मा बोले दोषियों को दी जाएगी कड़ी सजा

 

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कायरतापूर्ण घटना की मैं निंदा करता हूं, इसे हम बर्दाश्त नही करेगे, मामले की त्वरित जांच होगी, कहा जिन्होंने इस घटना को अंजाम दिया दिन में बात करें रात के अंधेरे में नही।

 

खालिस्तानियों ने एक बार फिर से हिमाचल प्रदेश सरकार को चेतावनी दे डाली है। हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला स्थित विधान सभा के बाहर खालिस्तान के झंडे लगाए पाए गए तथा दीवारों पर खालिस्तान के नारे भी लिखे हुए थे। यह घटना शनिवार देर रात की बताई जाउ रही है। सुबह होते ही जब लोगों को इस बारे में पता चला तो पुलिस को सूचित किया गया। इसके पीछे किसकी शरारत है व किसने यह सब किया है पुलिस इसकी तलाश कर रही है। पुलिस अन्य स्थानों पर स्थापित सीसीटीवी कैमरों की रिकार्डिंग भी खंगालने का काम शुरु कर दिया है। स्थानीय लोगों ने इस घटना की जानकारी पुलिस को दी तथ पुलिस ने मौके पर पहुंच कर झंडो को उतारा तथा लिखे गए खालिस्तान नारों को पेंट के माध्यम से साफ किया गया। पुलिस गहनता से जांच में जुटी है।

जिला कांगड़ा के एसपी . खुशहाल शर्मा ने कहा पड़ताल की जा रही है कि इस घटना को किसने अंजाम दिया। उन्होंने कहा अन्य जगह लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज भी जांची जाएगी। उन्होंने कहा इस मामले को लेकर विधान सभा में तैनाम सुरक्षा गार्डों से भी पूछताछ की जा रही है। उन्होंने कहा विधानसभा में सीसीटीवी कैमरे लगाने का प्रस्ताव था, लेकिन अभी तक यहां सीसीटीवी कैमरे लगे नहीं है। यह किसी की शरारत है। ऐसा पड़ताल में पता लगा है कि कोई मोटरसाइकिल व गाड़ी गुजरी है जिन्होंने यह किया है। उन्होंने कहा दोषियों को कड़ी सजा दी जाएगी।

धर्मशाला की एसडीएम शिल्पी बेक्टा ने कहा इस मामले को लेकर एचपी पब्लिक प्रापटी डिसफिगरमेंट एक्ट 1985 के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जांच के बाद ही पता चलेंगा कि इस घटना को किसने अंजाम दिया।

धर्मशाला के विधालय विशाल नैहरिया ने इस मामले की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि उन्होंने कहा कि खालिस्तान हिमत रखते हैं तो दिन के उजाले में बात करे रात के अंधरे में नही। उन्हों कहा जो भी इस मामले में संलिप्त पाया गया उसे कड़ी सजा दी जाएगी।

बताया जा रहा है कि विधानसभा परिसर में चार एक की गार्ड मौजूद है। जबकि विधानसभा के बाहर गार्ड नहीं होता है और न ही अभी तक यहां पर सीसीटीवी कैमरे स्थापित है। सुरक्षा के लिहाज से सीसीटीवी कैमरे स्थापित करने का प्रस्ताव है पर अभी तक स्थापित नहीं हैं। खालिस्तान की तरफ से लगातार बीते दिनों में धमकियों का सिलसिला भी बढ़ा है। यहां तक की मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर सहित भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा को संबोधित करते हुए संदेश जनता को फोन के माध्यम से दिए जा रहे थे। उसके बाद खालिस्तान के झंडे लगाकर पंजाब से आने वाले कुछ युवक अपने मोटरसाइकिलों व अन्य वाहनों में यह झंडे लगाकर आ रहे थे। जिन्हें पुलिस ने उतरवाया भी था और उसके बाद शिमला में भी इस तरह के झंडे लगाने संबंधित धमकियां दी जा रही थी। अब ऐसे में हिमाचल प्रदेश के विधानसभा भवन में खालिस्तान के झंडे लग गए हैं। हालांकि पुलिस ने सुबह ही इन्हें हटा दिया है।

Leave a Reply