कॉलेज की एनसीसी युनिट की छात्राओं ने बांटे हाटी समुदाय परिचय पत्र

Uncategorized

आज का समाचार के लिए सिरमौर से विजय आजाद की रिपोर्ट

संगड़ाह हाटी महाखुमली सम्मेलन संगड़ाह में मौजूद कांग्रेस, भाजपा व हाटी समिति के नेताओं ने एक बार फिर गिरिपार को जल्द जनजातीय दर्जा मिलने की उम्मीद जताई। केंद्रीय हाटी समिति अध्यक्ष डॉ अमीचंद कमल ने अपने संबोधन में कहा कि, दरसल 1979 में संवैधानिक संस्था अथवा हिमाचल सरकार द्वारा गिरिपार को जनजातीय दर्जा दिए जाने की सिफारिश की जा चुकी है, इसलिए केंद्रीय जनजातीय मंत्रालय द्वारा उनकी मांग को रिजेक्ट करना कहा जाना गलत है। उन्होने कहा कि, यदि गिरिपार क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों द्वारा सही ढंग से प्रयास किए गए होते तो 1967 में साथ लगते तत्कालीन यूपी के जौंसार क्षेत्र की तरह उन्हें भी अनुसूचित जनजाति दर्जा मिल गया होता। उन्होंने कहा कि, ट्रांसगिरी के अंतर्गत आने वाले विकास खंड संगड़ाह, शिलाई, तिल्लोरधार व राजगढ़ आदि की करीब तीन लाख की आबादी से जनजातीय क्षेत्र होने संबंधी सभी तय मापदंडों पर खरी उतरती है और इसके बावजूद आरजीआई अथवा केंद्रीय जनजातीय मंत्रालय द्वारा इस मांग को पूरा नहीं किया जा रहा है। उन्होने अनुसूचित जनजाति दर्जा मिलने से नौकरियों व अन्य क्षेत्रों मे मिलने वाले आरक्षण अथवा लाभ पर भी जानकारी दी। महाखुमली आयोजन समिति एंव कांग्रेस रेणुकाजी मंडल अध्यक्ष तपेंद्र चौहान ने अनुसूचित जनजाति दर्जे की मांग को लेकर क्षेत्रवासियों से संघर्ष तेज करने की अपील की। उन्होंने कहा कि, यदि आज साथ लगते शिमला जिला के कुपवी मे चुड़ेश्वर सेवा समिति का अधिवेशन न होता, तो महाखुमली बैठक मे भीड़ इससे कहीं ज्यादा होती। निमंत्रण के बावजूद सांसद एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप के न पहुंचने पर उन्होने खेद जताया। समिति की संगड़ाह यूनिट के महासचिव मनोज कमल ने ब्लॉक कमेटी की रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए बताया कि, सभी 44 पंचायतों से लोग यहां पहुंचे हैं और इस सम्मेलन के लिए हर पंचायत से 10 हजार रुपये की चंदा राशि एकत्र की गई।‌ उन्होंने कहा कि, समिति द्वारा अब तक क्षेत्र की 20 पंचायतों में 9,625 लोगों की सदस्यता की जा चुकी है। इसके अलावा सम्मेलन में कांग्रेस विधायक विनय कुमार, सिरमौर जिला परिषद अध्यक्ष एवं भाजपा नेत्री सीमा कन्याल व बलबीर चौहान तथा रुप सिंह सहित कईं कांग्रेस, भाजपा व हाटी समिति के कई नेता मौजूद रहे। भाजपा नेता सम्मेलन मे तय समय से करीब 1 घंटा देरी से पंहुचे। गौरतलब है कि, वर्तमान प्रदेश सरकार के कार्यकाल में हाटी समिति द्वारा इससे पूर्व रोनहाट, शिलाई व पझौता मे महाखुमली सम्मेलन के बाद रविवार को संगड़ाह में चौथा बड़ा शक्ति प्रदर्शन किया गया। सम्मेलन के डिग्री कॉलेज संगड़ाह की महिला एनसीसी युनिट की कैडेटस द्वारा मौजूद लोगों को हाटी समुदाय के परिचय प्रपत्र बांट कर अनुसूचित जनजाति दर्जे की मुहीम के प्रति जागरूक किया।

Leave a Reply