टिंबरसैंड महादेव को छोटा अमरनाथ के नाम से जाना जाता है

Uncategorized

आज का समाचार के लिए उत्तराखंड से नवीन सिंह की रिपोर्ट

हिंदुस्तान के अंतिम सीमा पर विद्यमान है बाबा टिंबरसैंड महादेव जी का गुफा, जिस गुफा के भीतर जाते ही दर्शन होते हैं बर्फ से बना शिवलिंग के दर्शन, जी हां हम बात कर रहे हैं हिंदुस्तान के अंतिम सीमा पर बसा एक ऐसे गांव की जिस गांव को नीति वेली के नाम से जाना जाता है, जहां होते हैं भगवान महादेव जी के अद्भुत शिवलिंग के दर्शन, आपको बता दें कि इस गुफा के भीतर आजकल बर्फ से बना हुआ भगवान महादेव जी का लिंग के दर्शन किए जा सकते हैं. इसी गुफा के कुछ दूरी पर एक नदी बहती है जिस नदी का रंग दूध की तरह है, जिसे दूध गंगा के नाम से भी जाना जाता है, हालांकि आजकल इस गुफा के चारों तरफ बर्फ जमी हुई है. लेकिन भक्तों की आस्था यहां काफी भारी दिखाई देती है, शिव भक्त यहां जाने के लिए काफी खुश रहते हैं, बाबा टिंबर सैंड जोशीमठ से 80 किलोमीटर के आसपास विद्यमान है, और इस गुफा तक जाने के लिए 1 किलोमीटर के आसपास खड़ी चढ़ाई पार करनी होती है, बाबा टिंबर सैंड महादेव को छोटा अमरनाथ के नाम से भी जाना जाता है, यहां पर अमरनाथ की तरह बना शिवलिंग के दर्शन किए जा सकते हैं, यहां पर पहुंचने वाले भक्त कहते हैं कि उनको अमरनाथ के दर्शन प्राप्त हो गए हैं, बड़ी बात तो यह है कि इस गुफा के भीतर किसी भी शिव भक्त को स्नान करने की जरूरत नहीं होती है, क्योंकि इसके भीतर जाते ही भक्तों के स्वयं स्नान हो जाते हैं, जहां पर शिवलिंग विद्यमान है ठीक उसके ऊपर से पहाड़ों से झरने के रूप में पानी बहता हुआ दिखाई देता है, जो झरना सीधे महादेव को स्नान कराती है, और खास बात तो यह है कि यहां पर प्रकृति स्वयं भगवान महादेव को हर दिन स्नान कराती है, सावन के महीने में विशेष यहां पर हजारों सैकड़ों की संख्या में शिव भक्त यहां पर पहुंचते हैं भगवान टिंबर सेन महादेव के दर्शन करने हेतु, कहा जाता है कि जो कोई भी इस गुफा में कुछ भी मांगता है उसकी मनोकामना तुरंत पूर्ण हो जाती है, इसीलिए यहां पर भक्तों की लंबी कतार देखने को मिलती है

Leave a Reply