सड़क निर्माण कार्य का मलवा डंपिंग जोन में डाले जाने के बजाय सीधा नदी में डाला जा रहा है

himachal

आज का समाचार के लिए उत्तराखंड से नवीन सिंह की रिपोर्ट

जोशीमठ से लगभग 80 किलोमीटर आगे नीति मलारी सीमा की तरफ आजकल लगातार सड़क चौड़ीकरण का कार्य तेजी से चल रहा है, जिसका सारा मलवा डंपिंग जोन मैं डाले जाने के बजाय सीधा नदी में डाला जा रहा है, आप तस्वीरों में देख सकते हैं कि किस प्रकार सड़क चौड़ीकरण का मलवा जोकि धौलीगंगा में दिखाई दे रहा है, अब इस जगह पर धीरे धीरे झील बनने जा रही है, बताया जा रहा है कि झील लगभग 20 से 30 मीटर लंबी व 15 से 20 मीटर चौड़ी बताई जा रही है, आपको बता दें कि यह झील दिखने में जरूर सुंदर नीले रंग की जरूर दिखाई देती है

लेकिन उच्च हिमालय मैं इस तरह की झील का बनना कोई खास अचरज की बात नहीं है, किंतु यह झील नदी के बहाव के विपरीत ही बनी हुई है, बताया जा रहा है कि झील बनने का कारण है सड़क निर्माण कार्य का मलवा है जो किसी निर्धारित डैंपिंग जोन में डाले जाने के बजाय सीधे नदी के हवाले किया जा रहा है, आप तस्वीरों में देख सकते हैं कि किस प्रकार इस धौली गंगा नदी में सड़क निर्माण कार्य का मालवा नदी के पास दिखाई दे रहा है, बता दें कि इस झील के आगे नदी के रास्ते में जगह-जगह बड़े-बड़े बोल्डर व मलवा का ढेर लगा हुआ है, जो कि किसी दिन खतरा का कारण बन सकता है, गौरतलब है कि भाकपा माले राज्य कमेटी सदस्य अतुल सती ने इस स्थान का दौरा करने के बाद कहा कि यह परिघटना किसी भी दिन कोई बड़ा रूप ले सकती है, उन्होंने बताया कि नदी में डंप किया जा रहा मलवा बड़ी तबाही का कारण बन सकता है, अतुल सती ने सरकार से इस पर तुरंत कार्यवाही करने की मांग करते हुए इसके लिए दोषी जिम्मेदार इकाइयों व लोगों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाही करने की मांग की है,

Leave a Reply