ग्राम पंचायत कंडोल में पहुंचने पर बबलू पंडित का फूल मालाओं से हुआ स्वागत

himachal

बरोटीवाला से अनवर हुसैन के साथ ब्यूरो रिपोर्ट 

– अगर जनता ने आशीर्वाद दिया तो आगामी विधानसभा चुनाव लडूंगा- बबलू पंडित

– महिलाओं के प्रति होने वाली हिंसा बर्दाश्त नहीं

हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनावों को भले ही अभी एक साल से अधिक का समय बाकी है। लेकिन इंटक प्रदेशाध्यक्ष बबलू पंडित ने अभी से दून विधानसभा के विभिन्न पंचायतों का दौरा कर लोगों से संवाद करना शुरू कर दिया है। वे पिछले कई महीनों से क्षेत्र ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा कर लोगों की समस्याओं का जायजा ले रहे है। इसी कड़ी में रविवार को बबलू पंडित ने दून विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत कंडोल का दौरा कर ग्रामीणों का हाल जाना। जहा लोगों ने फूल- मालाओं के साथ  उनका जोरदार स्वागत किया। पंडित ने लोगों से उनको आनेवाले 2022 में विधानसभा चुनावों में आशीर्वाद देने की अपील की और लोगों को सम्बोधित किया। ग्रामीणों को संबोधित करते हुए पंडित के कहा कि वर्तमान भाजपा सरकार हर मोर्चे पर विकल रही है और मूलभूत सुविधाएं भी लोगों को नही मिल रही है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के जनप्रिनिधि कमजोर है, जिसके चलते क्षेत्र की कंडोल पंचायत 40 साल पीछे चली गई है। दून के पहाड़ी क्षेत्र में सिंचाई संसाधनों का टोटा है। यहां के किसानों की खेती आज भी प्रकृति पर निर्भर है। साधनों के अभाव के चलते फसलों के उत्पादन पर असर पर रहा है। उन्होंने प्रदेश सरकार व दून विधायक से आग्रह किया है कि जल्द से जल्द नलकूप, ट्यूबवेल आदि की व्यवस्था की जाए ताकि  किसानों को सिंचाई की समस्या व होने पाएं।

पुरानो चहरों से उभ चुके है लोग, नए चेहरे की तलाश:-

विधानसभा चुनाव को लेकर एक बार सियासत की सुबगुबाहट शुरू हो गई है। राजनीतिक दल चुनावी मोड पर आ गए है। वैसे तो दून विधानसभा में कांग्रेस और भाजपा का लंबे समय से दखल रहा है। हर बार विधायकों के चेहरे बदलते रहे लेकिन विकास नहीं हुआ तो जनता ने कांग्रेस के पूर्व विधायक राम कुमार चौधरी को नकार दिया है और भाजपा के वर्धमान विधायक परमजीत सिंह पम्मी पर भरोसा जताया पर स्थानीय महिलाओं का कहना है कि  भाजपा विधायक भी जनता के उम्मीदों परखरे नही उतर रहे है। क्षेत्रीय विधायक पहाड़ी क्षेत्रों में सडक़, बिजली, पानी और स्वास्थ्य, शिक्षा, संचाई जैसी सुविधाएं दिलाना तो दूर, जनता के बीच पूरे पांच साल गायब रहे। विधायक का कुछ चिह्नित क्षेत्र में ही कभी-कभी आना जाना रहा। स्थानीय महिलायों का कहना है कि वर्तमान व पूर्व विधायक केवल फूल- मालाए डलवाने तक ही सीमित रहे। उन्होंने जनहित में कोई कार्य नहीं किए। बेरोजगारी बढ़ रही है, महिलाओं पर अत्याचार की घटनाएं निरंतर बढ़ रही है। यह भी कहना गलत नही होगा कि जनता पुराने चेहरों से अब उभ गई है और इस बार जनता नए चेहरे के रूप में आशा भरी नजरों से देख रही है। वहीं बबलू पंडित ने कहा कि महिलाओं के प्रति होने वाली हिंसा बर्दाश्त नहीं की जायेगी। मातृशक्ति की लिए वह वचनवद्ध है। पंडित के कहा कि अगर जनता ने आशीर्वाद दिया तो आगामी 2022 में विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए तैयार हु।  इस मौके पर उनके साथ पूनम ठाकुर, सुषमा, कमलेश देवी, सरस्वती, रजनी, अनु देवी, राधा, पार्वती, वीना देवी, निक्की, ज्योति, बेबी, सपना, पोली, वंदना, प्रिंस, अनमोल, धीरज, अंशु, अभिषेक, जोगिंदर सिंह, राजीव शर्मा संजीव ठाकुर, अजय कोहली, जीत राम, महेंद्र सिंह सुरेश कुमार, लायक राम व अन्य लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply